Monday, 26 May 2014

An eye for an eye makes the whole world blind!

India has always been in a religious tumult initiated by political rationale. Religion based riots are nothing new in Indian context. We have been witnessing it ever since India became independent and even prior to that. The violence that these riots unleash is both chilling and mind-numbing. In an orgy of blood-letting and murder, thousands die, are injured and lakhs are rendered homeless. The religious riots let the strident fascism rise to the surface. The two communities Hindus and Muslims hanker for each other’s blood. Hindus thirsting for Muslim blood. Muslims thirsting for Hindu blood. Revenge begets revenge, begets revenge.
These religious riots are triggered by radical authoritarian nationalism that tends to distress both the communities. We have seen in the past how an idea of religious extremism gravitate to more violent means of proving one’s religion better than the other. How some religious leaders assemble a squad of gullible and credulous individuals who once brainwashed just crave for a simple excuse to kill others. People in this country are either too busy or pretending to be too busy to disregard such critical complications that could bring our country to ruins. They take no interest in discussions which will open our mind to reasons why such things happen in our country every now and then.
Now, it’s not about blaming any religious community for broadcasting such schemes. Islam and Hinduism are and have always been in confrontation. They don’t need excuses to hate each other. Most of the riots have been between these two communities. Be it the all-India riots of 1947, or the Bombay riots of 1992 or the Gujarat riots of 2002, one of these communities’ radical conception have been the major reasons for its launch.
Talking about the 1992 riots which resulted in the Bombay stock exchange blasts in 1993 was majorly triggered by the political impingement in religious matter of Ayodhya Ram-janmabhoomi babari masjid conflict. Many kar-sevaks from all over the country under the leadership of RSS and Shivsena and also BJP climbed on the 460 years structure and demolished it. The excuse given for this action was that the place where the Mosque was built was the same place where Lord Ram was born and that it monument was just a structure and not a mosque because the Muslims never offered prayers in it. Maybe it’s true, and maybe it’s not. No one amongst us was present at the time of Lord Ram to scrutinize this statement. This action by the hardcore Hindus was followed by the riots all over the country when the Muslim community retaliated. Thousands of Hindus were murdered and tormented by the people from Muslim community. The Hindus were no less. They too murdered and injured thousands of Muslims all over the country. Muslims being a minority in India got both media and political sympathy. It finally resulted in the Bombay blasts of 1993 which was regulated by some Muslim leaders who swore and oath to show the world the strength of Islam under the guidance of Dawood Ibrahim. Thousands of innocent people lost their lives and were rendered homeless after the blasts.
In 2002 Gujarat riots, it all began with the incident that trembled the whole nation. 57 Hindu returning from Ayodhya in Sabarmati express were burnt alive by the people from Muslim community. Burning alive is the worst death anyone can suffer. The agony and rage that materialized in the Hindu community was immense. They retaliated. Gujarat being a Hindu dominant area and with a Hindu nationalist leader at the top made life miserable for the Muslims. They were killed everywhere in Gujarat. But then it was all a result of the 57 people burnt alive by the Muslims. This matter was greatly politicized and every political party in India went after the then chief minister Narendra Modi. He was blamed to be responsible for even beginning the riots. Muslims being in a minority in Gujarat again found political and media sympathy. Many documentary movies were made which explained how genocide occurred in Gujarat that year. All were sympathetic to one community. I saw a documentary which says,
“59 hindus die in a clash with Muslims at Godhra on their return journey from karseva in Ayodhya.“ “Hindu mobs raid Muslim settlements killing over 2500 people.” Now are you kidding me? Is burning someone alive dying in a clash? Really?

Point is that it’s all about the involvement of political and media people in religious matters that result in such devastation. I can very easily say that the rage is not yet over. There is still some pain and agony which can be felt when you think about our past. Our present is very precarious. Any day now there will be another riot. No city in whole of India can preclude itself from being involved in it. I don’t know any solution to this problem. But what if we can overlook all that took place in the past and try to amend our present in a hope of propitious and amicable future. We don’t have to forget that AN EYE FOR AN EYE MAKES THE WHOLE WORLD BLIND! 

Friday, 23 May 2014

How does it feel like to live in ‘darkness’?

The last book I read was ‘The White Tiger’ by Mr. Arvind Adiga which unfolds the unforeseeable cruise of the protagonist Munna aka the white tiger aka Ashok Sharma, a boy born in ‘darkness’  who was destined to be a halwai or a sweet maker but amazingly makes his way to become an entrepreneur in a city like Bangalore. It narrates the journey of a simple, faithful servant who later becomes a ‘murderer’ and an ‘entrepreneur’. Just read the book if you want to know more. Worth reading.

 So how did this influence my blog? I was born in a middle class family in the city of Gorakhpur in North-eastern Uttar Pradesh. Now when you read this book, you can very well relate the characters in it with people you see around in a place like Gorakhpur. I can say that Gorakhpur is still in the ‘darkness’.  And I do find people like Munna and Mr. Ashok and Pinky madam around me.

Uttar Pradesh was once the city of cultures. Mini-India was the title given to it. There are historic cities like Varanasi, Allahabad, Meerut, Kanpur and many more. Every city in Uttar Pradesh has its own historic significance. Even my city, Gorakhpur is known for the very famous chauri-chaura kaand which possesses its own importance in our freedom struggle. There are three IIT’s in Uttar Pradesh itself in Kanpur, Roorkee and Banaras. Besides, there are several other proficient universities for technical and management studies in U.P. The cities like Lucknow, Meerut, Noida, Ghaziabad et cetera are the specimens for development that has been going in India. So why am I grumbling?

The reason behind it is the inadequate, substandard, amateurish and an unpleasant atmosphere that has been created for the women. Not only the women, but honestly speaking, a boy like me with a strong built and 20 years of age would also be nervous to go to the outskirts of the city in broad daylight. Let me get this straight. I have many friends in my college who are cool hanging around with girls. But it’s not the case with me. I experience uneasiness once I am in company of women. It is so because I have never been in such an atmosphere back there in darkness. You can’t have female friends back there. Even if you have a few, the people are not cool with that. They start making repudiating faces when you talk about it. I have a few female friends now and whenever we go back to Gorakhpur from our colleges, we propose for a meeting. But every time, it’s the same nervousness that hovers in our minds. Where to meet? When to meet? Is it suitable to go to a particular place with girls? How to rescue them if we are confronted by some thugs? I don’t know the reason behind this kind of ambience. Maybe because these goons were devoid of any female influence in their lives and they think of women as just a commodity.  They do disrespect women and it is them who make our lives miserable in public places. Whomsoever I meet, when I tell them I am from Uttar Pradesh, there is a strange expression on their faces as if I will be an unpleasant company. But let me tell you my friends, this is not the case with everyone in U.P. I am different and certainly a large percentage of people are civilized even in the darkness.

Now I have a political animosity with S.P. and B.S.P. and I have no worries writing this that they are one of the major reasons for this kind of ambience. The samajwadi party is packed up with lowlifes and street thugs who think that their Netaji will cover their back for every offence they carry out. Same goes with B.S.P. They are the ruling parties in U.P. and they are solely responsible for such conception of the state.

Although, it is saturated with discourteous, rude, uncivil, ill-mannered, ungracious and inconsiderate men but still it has deferential, humble, respectful and grateful people who will climb out of the darkness one day and will have prominent positions in the existent framework. They are the ones who have to make their city and their state proud. They are the ones who can bring about a change much needed in the present framework of Uttar Pradesh. Certainly, they are the ones whose presence you can enjoy and they will show you the real essence and genuine ethos of Uttar Pradesh.  

Wednesday, 14 May 2014

मौत तू एक कविता है

ज़िन्दगी और मौत तो ऊपर वाले के हाथ में है जहाँपनाह,
इसे तो न आप बदल सकते हैं और न मैं,
हम सब तो रंगमंच कि कटपुतलिया हैं, 
कौन कब कैसे उठेगा ये कोई नहीं जानता |

1972 कि सुपरहिट फिल्म "आनंद" कि इन पंक्तियों में जीवन कि सच्चाई को बड़े ही आसन रूप से समझाया गया है | जीवन का सत्य : मौत | हम मौत के बारे में बात नहीं करना चाहते | इसे बड़ा ही निराशाजनक स्वाभाव मन जाता रहा है | ये जीवन कि एक अहम सच्चाई को देखने का एक गलत नजरिया है जो कोई भेद भाव नहीं करती | ये राजाओं के पास भी जाती है और भिखारियों के पास भी, अमीर के पास भी और गरीब के पास भी, आस्तिक के पास भी और नास्तिक के पास भी | बच्चा, जवान या बूढा, मौत किसी के भी पास आ सकती है | आप अपनी आँखें मूंदकर यह नहीं सोच सकते कि मौत हर किसी को अपनी आगोश में ले लेगी पर आपको बक्श देगी | ऐसा नहीं होगा | इसलिए बेहतर है कि हम इसके लिए तैयार रहे और जब यह आये तो अपने चेहरे पर एक मुस्कान के साथ इसका स्वागत करें |
कुछ दिनों पहले मेरे साथ एक ऐसी घटना घटी जिससे मेरे अन्दर मौत को लेकर एक उथल पुथल शुरू हो गयी | मेरे पिता बड़े ही आस्तिक हैं | साल में दो बाद वैष्णो माता का दर्शन करने और हर नवरात्री कामख्या देवी के मंदिर ज़रूर जाते हैं | इस बार भी यही हुआ | वो कामख्या देवी के मंदिर से वापस आ रहे थे | गाड़ी रात के साढ़े ग्यारह बजे गोरखपुर स्टेशन आती है | समयानुसार गाड़ी 11:15 पर सरदारनगर रेलवे स्टेशन पे पहुँच चुकी थी और मैं अपने पिता को लेने के लिए घर से निकल चूका था | हलकी बरसात हो रही थी | मैं 11:30 पर स्टेशन पहुँच गया था पर ट्रेन अब भी वहीँ खड़ी थी | मैं वहीँ रूककर इंतज़ार करने लगा | समय बीतता रहा पर गाड़ी के आने कि कोई सूचना नहीं मिली | अपने पिता को फ़ोन किया तोह पता चला कि गाड़ी का इंजन जल गया है और शायद एक घंटा और लग जाए | मैंने सोचा कि वहीँ रूककर इंतज़ार करना ही बेहतर होगा |  
मैं वहां खड़ा ही था कि मेरे ठीक पीछे एक एम्बुलेंस आकर रूकती है और उसमे से एक वार्द्ब्याय निकलता है | पीछे का दरवाज़ा खोलकर वो एक आदमी को अपने कंधो पर चढ़ाता है और बड़ी मुश्किल से उसे पार्किंग कि जगह के पास लाकर छोड़ देता है | बड़ी तेज़ी से वापस एम्बुलेंस में बैठता है और उसी तेज़ी से बारिश कि वजह से सड़क पर लगे हुए पानी को उड़ाते हुए एम्बुलेंस गायब हो जाती है | मैं इधर उधर देखता हूँ तोह पता हूँ कि किसी ने भी शायद ये नहीं देखा था | हर कोई अपने काम में व्यस्त था | लोग आ-जा रहे थे |  बाहर खड़े लोग बस अपनी घडी पर नज़रें गडाए थे | मैंने नज़रें घुमाईं तो देखा कि जिस आदमी को वहां छोड़ा गया था वो अब धीरे धीरे रेंगना शुरू करता है | 
करीब ५०-५५ का एक दुबला पतला सा आदमी | फटी पुरानी लुंगी और बनयान पहने हुए | चेहरा सिकुड़ा हुआ, आँखें उसी सिकुड़े चेहरे में धसी हुई | माथे पर एक सफ़ेद पट्टी थी और उसमे से खून का धब्बा साफ़ दिख रहा था | हाथ पैर बिलकुल काम नहीं कर रहे थे | रेंगता हुआ कीड़ा देखा है ? पेट के बल किस तरह रेंगता है वह | किस तरह हाथ पैर चलाता है | वैसा ही कुछ देख रहा था मैं | मेरा दिल बैठ गया | अचानक से मेरी साड़ी इन्द्रियां उसी कि ओर आकर्षित हो गयी और मैं गौर से उसे देखने लगा | क्या मानव जीवन इतना ही तुच्छ है कि रेंगते हुए कीड़े और एक मनुष्य को हम एक ही श्रेणी में लाकर खड़ा कर सकते हैं ? इतनी लाचारी और बेबसी आखिर क्यूँ है इसके जीवन में ? उसे रेंगता देख नहीं पा रहा था मैं | मैंने जानने कि कोशिश कि कि ट्रेन कबतक आएगी | पता चला कि ट्रेन अभी भी सरदारनगर में ही थी | मेरे पास और कोई विकल्प नहीं था सिवाय उसे यूँ ही रेंगता देखने के | मैं दूसरी तरफ घूम गया | पर कुछ ही देर बाद "या अल्लाह, या अल्लाह" कि दबी दबी दर्द भरी आवाज़ सुने दी | मैंने मुड़ कर देखा तोह वो आदमी अब रेंगते रेंगते एक खम्बे तक आ गया था और किसी तरह पीठ टिका कर वहां पड़ा हुआ था | बारिश होने लगी थी और वो वही पड़ा पड़ा भीग रहा था | 
"मर जाएगा ये तो", मेरे बगल में खड़े किसी ने कहा | मैंने इस बात का कोई जवाब नहीं दिया | चुप चाप खड़ा तमाशा देखता रहा | 
"ऐसे नहीं मरेगा तोह बारिश कि वजह से मर जाएगा", मेरे बगल वाले व्यक्ति ने फिर एक कोशिश कि मुझसे बात करने की | 
"हाँ भाई, ये सब ऐसे ही पड़े रहते हैं सड़क पे, कोई गाड़ी चढ़ गयी होगी, भला हो हॉस्पिटल का जिसने मरहम पट्टी तोह कर दी |" पीछे से किसी ने मेरे बगल वाले के सुर में सुर मिलाये | 
"हाँ लेकिन मर तो यह जाएगा ही", बगल वाला अपनी बात पर अडिग था | 
मैं वहां खड़ा होकर, आँखें नीचे करके उनकी बात सुन रहा था | मुझसे कोई उत्तर न पता देख दोनों निराश हो गए और मुड़ कर जाने लगे | मेरी अनेक कोशिशों के बावजूद मेरी आँखें उससे हट नहीं रही थीं | अचानक उसने आँखें उठाई और मेरी आँखें उससे जा मिलीं | एक दर्द, निराशा, और पीड़ा दिख रही थी उसकी आंखो में | जैसे किसी ने जीने की इच्छा छोड़ दी हो | उसे उसकी मौत अपने सामने दिख रही थी | और वहां से आने जाने वाला हर आदमी सिर्फ यही सोच रहा था कि कहीं बारिश में आने कि वजह से उसकी घडी या मोबाइल तो नहीं ख़राब हो गया | हर कोई बस इसलिए चैन कि सांस ले रहा था क्यूंकि उन्हें लग रहा था कि मौत तो उसकी होनी है | हम तो सुरक्षित हैं | हर कोई एक धोखे में था कि वे मौत कि इस चादर को नहीं ओढेंगे |  एक मायूसी छा गयी थी मेरे मन में | मैं सोचने लगा था 
ज़िन्दगी के सादे पटल पर में क्या लिखूं ,
मौत कि कविता खुद-ब- खुद अपनी छाप छोड़ जाएगी |
मैं नास्तिक होने के बावजूद प्रार्थना करने लगा था | मुझे असली इश्वर साक्षात अपने सामने दिख रहे थे | एक सच्चा इश्वर | और उस इश्वर से हम सब एक ही विनती करते हैं 
"आज नहीं!!!!"
वहां खड़ा होकर मैं सिर्फ सोच रहा था | मेरे हाथ उसकी मदद के लिए आगे नहीं बढ़ रहे थे | आते जाते लोगों को भी शायद कोई फरक नहीं पड़ रहा था | हर कोई अपनी धुन में मस्त था | अचानक से करीब १०-१२ पुलिसवाले उधर कि ओर आते हैं और राहगीरों को हटाने लगते हैं | उनमे से कई ने उस आदमी को भी देखा पर किसी ने उसकी मदद करने कि कोशिश नहीं कि | एक लाल-बत्ती वाली गाड़ी आकर वहां रूकती है, उसमे से एक महाशय निकलते हैं और चेहरे पर एक मुस्कान के साथ सीधा स्टेशन में प्रवेश कर जाते हैं. | उनके जाते ही सब कुछ पहले जैसा ही हो जाता है | उनकी लाल बत्ती चली जाती है | वहां तैनात पुलिसवाले बिखर जाते हैं | कुछ बच जाता है तो वो है एक मरता हुआ इंसान, उसकी पीड़ा, और मौत का तांडव देखते हुए कुछ नपुंसक लोग | 
समय बीत रहा था और आखिर ट्रेन के आने का संकेत हो गया था | मैंने घडी देखि तोह पाया कि 1.30 बज गए हैं | बडी हिम्मत करके मैंने एक बार फिर उस आदमी कि तरफ देखा और उसे निर्जीव पाया | मैं वहां खड़ा होकर यही सोचता रहा कि वह ज़िन्दा है या मर गया | मैंने हिम्मत जुटाई और उसकी तरफ बढ़ने कि कोशिश कि ही थी कि ट्रेन प्लेटफ़ॉर्म पर आ गयी | मैं वहीँ खड़ा रहा और अपने पिता के स्टेशन से निकलने कि प्रतीक्षा करने लगा | मेरे पिता आए और हम दोनों वहां से निकल गए | जाते जाते मैंने एक बार फिर उसकी ओर देखा और पाया कि वो बिलकुल हिल नहीं रहा है | मेरा दिल बैठ गया | कुछ न कर पाने कि एक विवशता मेरे मन में घर कर गयी | लेकिन इस घटना ने मुझे बहुत कुछ सिखाया | मौत को देखने का नजरिया ही बदल दिया | साथ ही साथ मांस और चमड़ी के कवच में बंद कुछ हड्डियों के ढांचों से भी अवगत कराया | अब मुझे मौत से कोई डर नहीं रह गया है | भला ज़िन्दगी से कोई डरता है ? तो मौत से कैसा डर ?  
-मौत तू एक कविता है,
मुझसे एक कविता का वादा है मिलेगी मुझको |
डूबती नब्जों में जब दर्द को नींद आने लगे,
ज़र्द सा चेहरा लिए चाँद उफक तक पहुंचे,
दिन अभी पानी में हो, रात किनारे के करीब,
न अँधेरा न उजाला हो,
न रात न दिन ,
जिस्म जब ख़त्म हो और रूह को जब सांस आये ,
मुझसे एक कविता का वादा है मिलेगी मुझको | 


शोर यूँ ही ना परिंदों ने मचाया होगा,
कोई जंगल में शहर से आया होगा |
कल तक तो सभी किकोल रहे थे,
किसे पता था आज अंबर पर लहू का रंग छाया होगा |
कौन है जो राहों में हैं खून का रंग छोड़ते,
आख़िर ऐसी होली खेलना इन्हे किसी ने तो सिखाया होगा |
क्या है इनकी धर्म, जाति, क्या है इनका सोचना,
किसने इन्हे ज़िंदगी का यह गंदा रूप दिखाया होगा |
आज लोग है खड़े, क्रांति लाने पर डटे,
क्या पता किसी ने इन्हे इनका ईमान खरीद के बुलाया होगा |
नबस बुझती है, भड़कती है, एक मामूल है घबराना भी,
कल रात अंधेरे ने अंधेरे से कहा, एक आदत है जिए जाना भी |
रात फिर सब घर चले जाएँगे, रोटी तोड़कर सो जाएँगे,
इस इंतज़ार में की कब फिर एक और जंगल कटे,
कब फिर कुछ और परिंदे शोर मचाए ,
विद्रोह को क्रांति का नाम दिलाने कब यह जानवर फिर शहर से जंगल में जायें......

युवा जोश ?

               भारत विविधताओं का देश है | यहाँ विभिन्न प्रकार की अनेकता हैं | परन्तु इन्ही विभिन्नताओं में एकता ढूंड निकालना ही हमारी असली काबिलियत है | यह विविधताएँ समाज द्वारा बनाए गये पहलुओं और सत्ता में बैठे बुद्धि बलिहरियों के कुछ नियमों पे निर्भर करती हैं | उदाहरण स्वरूप : अमीर और ग़रीब के बीच का अंतर, यह बहुत हद तक समाज द्वारा बनाया गया है | या आज के नवनिर्मित शहरी भारत में जाति के नाम पे किया जाने वाला अंतर, सरकार की गैर-अनुशासित ढंग से किए जाने वाले कर्मों का फल है | इन सभी अंतरों और विविधताओं के बीच हम में एक जुड़ाव है | यही जुड़ाव हमे देश की प्रगति की ओर अग्रसर करेगा |
              देश कई वर्गों में बँटा हुआ है | और इसके पीछे कई कारण हैं | वर्गों के वर्णन में समय व्यतीत नही करते हैं | लेकिन यहाँ विचारात्मक बात यह है की ऐसा कौन सा वर्ग है जो देश को सबसे अधिक हानि या लाभ पंहुचा सकता है | यह वर्ग है युवा वर्ग | स्फूर्ति और नए विचारों से परिपूर्ण इस वर्ग को यदि सही अवसर और काम करने का सही उद्देश्य मिले तो इनके लिए कोई भी काम असंभव नही है |  अपनी एक नयी पहचान बनाने के जुनून को यदि सही दिशा प्रदान की जाए तो इनके लिए कुछ भी संभव है | लेकिन ध्यान देने योग्य बात यह है कि हमारे देश में ७४ प्रतिशत जनता ४० से कम उम्र की है |  फिर आख़िर क्या वजह है की यह देश प्रगति की राह पर बढ़ तो रहा है पर बड़ी ही धीमी गति से |
              आज का युवा वर्ग बड़ा ही खाली होता है | खाली समय नौजवानों की आदत होती है | घुमा फिरा के हर बात राजनीति पे ले आते हैं | और राजनीति से जी ऊब जाए तो प्यार मुहब्बत के चर्चे शुरू हो जाते हैं | श्याम बेनेगल कहते हैं : आम ज़िंदगी में १० बरस ऐसे होते हाँ जब हम प्रेम करते हैं | और उन दस बरस में खाना पीना, आर्थिक संघर्ष , पढ़ाई लिखाई, घूमना फिरना, मित्र गोष्ठी, सिनेमा इन सबसे जब टाइम बचता है, तभी तो हम प्रेम करते हैं | लेकिन कई विद्वान मानते हैं की प्रेम का सामाजिक स्थितियों से कुछ संबंध है | प्रेम महज़ रूमानी, रहस्यमय और अत्यंत निजी भावना नही है, उसकी नीव आर्थिक व्यवस्था पर स्थापित है | वर्ग संघर्ष पर इसका आधार है | आज कल का प्रेम आर्थिक स्थितियों से अनुशासित तो होता है, परंतु यह केवल आंशिक सत्य है | प्रेम तो सपने, संगीत और सौंदर्य भी है | लेकिन जब तक इस प्रेम में साहस नही होता जो की इन सपनो को स्माजिक सत्य में बदल सके, यह ऐसे ही गायब हो जाता है जैसे बादलों की छाया | लेकिन इन बातों में हम आर्थिक स्थितियों को नज़रअंदाज़ नही कर सकते | आज कल प्रेम सिर्फ़ किताबों और कहानियों में पाया जाता है | विद्यालयों और महाविद्यालयों में पाया जाने वाला प्रेम अधिकांश मामलों में  नव-युवा के मन में चल रही एक सामाजिक उथल पुथल का ही नतीजा होता है |
               प्रेम एक ऐसा विषय है जिसपे सदियों से किताबें लिखी जाती रही हैं, और लोग उन्हे पढ़ के अपना आपा खोते रहे हैं | सिग्मंद फ्राय्ड ने कहा है : हमारे जीवन की प्रमुख प्रेरणा प्रेम नही बल्कि उस हर्ष का अनुधावन और अन्वेषण होना चाहिए जो हमे व्यक्तिगत रूप से सार्थक लगे | अब जबकि प्रेम पे इतना कुछ लिखा जा चुका है, तो इसपर समय व्यर्थ करने में मुझे किसी प्रकार की सार्थकता नही नज़र आती | परंतु आज का युवा इस एहसास को ना केवल जीने की आकांक्षा रखता है,  बल्कि इसमें पूर्ण रूप से डूब कर अपना और अपने साथी दोनो का समय व्यर्थ करता है | प्रेम का संभव होना बहुत आवश्यक है | प्रेम तब तक संभव नही हो सकता जबतक इसे सही रूप में प्रत्यर्पित ना किया जाए |
                  रुख़ मोड़ते हैं राजनीति की तरफ | राजनीति किसी भी देश का सबसे पेचीदा विषय है | भारत में तो संविधान के अनुसार देश में हो रहे राजनैतिक बदलाव की चाभी हमारे हाथ में है | यह बात काफ़ी हद तक सही भी है और काफ़ी हद तक ग़लत भी | सही इसलिए क्योंकि यदि ७४ प्रतिशत जनता एक मत होकर कोई निर्णय ले तो इसे कोई भी नही नकार सकता | परंतु ग़लत इसलिए की उपर दिया गया आँकड़ा सिर्फ़ किताबों के लिए है | उसी तरह से जैसे की प्रेम सिर्फ़ किताबों के पन्नो में अच्छा लगता है | वैसे ही ये आँकड़े भी सिर्फ़ आदर्श परिशितियों में ही अच्छे लगते हैं | सच्चाई यह है की आज का नौजवान शिक्षा के अभाव के कारण किसी एक व्यक्ति विशेष या पार्टी विशेष के अधीन है | शिक्षा के अभाव के कारण ये नौजवान नये विचारों का मनोविशलेषन करने में असक्षम हैं | यही नही, शिक्षित नौजवान भी या तो अत्यंत रूप से  व्यस्त हैं, या व्यस्त होने का दिखावा कर रहे हैं | कोई भी राजनीति के कीचड़ में उतार कर उसे साफ़ करने की चेष्ठा नही करता | करे भी क्यूँ भला | ऐसा करने वाले या तो राजनैतिक महारथियों द्वारा मार दिए जाते हैं या फिर कचहरी के चक्कर काटते काटते थक जाते हैं | इस नौकरशाही के विरुद्ध आवाज़ उठाने वाले यदि एकजुट होकर इन्हे उखाड़ फेंकने में कामयाब रहे तो यह देश और उनके लोगों के लिए असीम कृपा होगी | दिल्ली की जनता ने अपना मत दिया और १५ सालों से गैर ज़िम्मेदाराना ढंग से चली आ रही सरकार को बाहर का रास्ता दिखा दिया | दिल्ली ही नही, पूरे देश की जनता को राजनीति में विकल्प की जगह  वैकल्पिक राजनीति की आवश्यकता है | इसके लिए दिल्ली में की गयी शुरुआत तो काफ़ी अच्छी है पर जिस सरकार को बनने में २ साप्ताह से ज़्यादा लग गये, क्या वो सही समय काल में अपने किए हुए वादों को पूरा कर पाएगी | यह देखने योग्य होगा | इस पूरी मुहिम के पीछे यदि कोई सबसे बड़ी ताक़त है तो वो है युवा शक्ति | हर मोर्चे पर युवा शक्ति ने अपना काम बेहद सुचारू रूप से किया और इस आम आदमी की इस जीत के असली हक़दार बने | यही है "यंग इंडिया" की ताक़त |
                 देश के उत्थान में आ रही कमी की असली वजह भी यहीं से शुरू होती है | राजनीति में देश की युवा पीढ़ी का हिस्सा ना लेना | हिस्सा लेने वालों को उनकी काबिलियत अनुसार फल ना प्राप्त होना देश के युवा को राजनीति से दूर ले जाती है | राजनीति एक साधना है | एक कला है | इसे सही सुचारू रूप से करने के लिए चाहिए दृढ़-संकल्प और पीछे ना हटने की क्षमता | राजनीति के दुर्गम मार्ग पर चलते हुए बदलाव के स्वप्न देखना बहुत ही बड़ी बात है | यह काम सबसे आसानी से युवा वर्ग द्वारा किया जा सकता है | देखना यह होगा कि आम आदमी को राजनैतिक अखाड़े में उतारने के बाद देश का  युवा अपनी दिशा कैसे निर्धारित करता है | यही दिशा देश की दशा निर्धारित करेगी |

Tuesday, 13 May 2014


ज़िंदगी के उन अनसुने पहलुओं के पीछे की कहानी,
जब ज़िंदा होकर भी पल पल मर रहा था मैं |
अल्हैद्गि के उन कयामत भरे रातों की कहानी,
जब अंधेरो में अपना आशियाँ खोज रहा था मैं | 
मिल रही थी तन्हाई हर तरफ,
महफ़िल में भी सिर्फ़ खामोशी सुन रहा था मैं | 
तेरे रुखसार को दिल भूल नहीं पाता,
क़तरा क़तरा ही सही, तुझमे खो रहा था मैं | 
इस दश्त-ए-तन्हाई में अब्शार दे देता कोई,
वो फिराक़ की रात नही भूल पा रहा था मैं |
तेरे साँस की आँच अब भी महसूस करता हूँ,
तेरी खुश्बू को अपने अंदर बसा रहा था मैं | 
आज फिर शायद तेरे रुखसार पे वो हया दिखी थी मुझे,
आज फिर उठ रही थी कही क़ुरबत से तेरी साँस की आँच,
शायद आज फिर तू मुझे वैसे ही देखेगी और मैं तुझे,
शायद आज ढल जाएगा हिज्र का दिन और आएगी वस्ल की रात |